KAMCHUDAMANI RASA (कामचूड़ामणि रस )

मोती पिष्टी, स्वर्णमाक्षिक भस्म, स्वर्ण भस्म, रौप्य भस्म, वंग भस्म, भीमसेनी कर्पूर, जायफल, जावित्री, लौंग, दालचीनी, तेजपत्र, छोटी इलायची, नागकेशर।

Diamond

Qty ::



 

घटक द्वव्य मोती पिष्टी, स्वर्णमाक्षिक भस्म, स्वर्ण भस्म, रौप्य भस्म, वंग भस्म, भीमसेनी कर्पूर, जायफल, जावित्री, लौंग, दालचीनी, तेजपत्र, छोटी इलायची, नागकेशर।

भावना द्रव्य  

शतावरी रस

उपयोग

यह योग कामेच्छा को बढ़ाता है। यह प्रमेह, मूत्ररोग,मन्दाग्रि, रक्तदोष, शोथ और स्त्रियों के विविध रोगोंउपयोगी है।

मात्रा  100 मि. ग्रा.
अनुपान मिश्री युक्त दुध |

News