SANSHMANI VATI (संशमनी वटी)

अमृता सत्व, लौह भस्म, अभ्रक भस्म 50 पुटी, स्वर्णमाक्षिक भस्म |

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

अमृता सत्व, लौह भस्म, अभ्रक भस्म 50 पुटी, स्वर्णमाक्षिक भस्म |

उपयोग

जीर्ण ज्वर, क्षय, पाण्डु, प्रदर, ज्वर, ज्वर के बाद की दुर्बलता, धातु क्षीणता आदि में उपयोगी है। यह सगर्भा, प्रसूता, बालक, वृद्ध हर उम्र में हितकारक व स्मरण शक्ति वर्धक है।

मात्रा   250 मि. ग्रा. से 500 मि. ग्रा. (2-4 गोली) दिन में 2 बार।
अनुपान  दूध 

News