SHILAJATU VATI (शिलाजतु वटी)

शुद्ध शिलाजीत, शुद्ध गुग्गुल, लौह भस्म, वंग भस्म स्वर्णमाक्षिक भस्म |

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

शुद्ध शिलाजीत, शुद्ध गुग्गुल, लौह भस्म, वंग भस्म स्वर्णमाक्षिक भस्म |

उपयोग

प्रमेह, मधुमेह, वीर्य की उष्णता, मूत्रसह धातु गिरना, मूत्र  मार्ग दाह, प्रदर रोग, अश्मरी आदि में हितकर है।

मात्रा

125 मि.ग्रा. से 250 मि. ग्रा.(1-2 गोली ) दिन में 2 बार ।

अनुपान

दूध, जल, शहद।

News