LAKSHMANA LAUHA (लक्ष्मणा लौह)

लक्ष्मणापंचांगघन, अशोक छाल, कुश की जड़, महुवे के फूल, मुलैठी, बला की जड़, पाठा, बेलगिरी, लौह भस्म ।

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

लक्ष्मणापंचांगघन, अशोक छाल, कुश की जड़, महुवे के फूल, मुलैठी, बला की जड़, पाठा, बेलगिरी, लौह भस्म ।

उपयोग

गर्भाशय की विकृतियाँ, मासिक धर्म समय पर न आना,कष्टार्त्तत, रक्त अल्प आना।

मात्रा 250 मि.ग्रा. से 500 मि.ग्रा. दिन में 2 बार ।
अनुपान  अशोकारिष्ट या जल

News