PRADARANTAK LOUHA (प्रदरान्तक लौह)

 लौह भस्म, ताम्र भस्म, शुद्ध हरताल, वंग भस्म, अभ्रक भस्म, वराटिका भस्म, शुण्ठी, पीपली, कृष्ण मरिच, |हरीतकी, आमलकी, चित्रकमूल, वायविडंग, सैधवनमक, कृष्ण नमक, समुद्र नमक, विडःनमक, चव्य, पीपली, शंख भस्म, चव, हाऊबेर, कूठ, कचूर, पाठा,देवदारू, छोटी इलायची, विधारा।

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

 लौह भस्म, ताम्र भस्म, शुद्ध हरताल, वंग भस्म, अभ्रक भस्म, वराटिका भस्म, शुण्ठी, पीपली, कृष्ण मरिच, |हरीतकी, आमलकी, चित्रकमूल, वायविडंग, सैधवनमक, कृष्ण नमक, समुद्र नमक, विडःनमक, चव्य, पीपली, शंख भस्म, चव, हाऊबेर, कूठ, कचूर, पाठा,देवदारू, छोटी इलायची, विधारा।

उपयोग

श्वेत प्रदर, रक्त प्रदर, कुक्षिशूल, कटिशूल, योनिशूल, मन्दाग्रि, पाण्डु, मासिक धर्म सम्बन्धित रोग दूर होते हैं ।

मात्रा

 1 -- 1 ग्राम दिन में 2 बार ।

अनुपान

मिश्री, घृत और शहद

News