TRYUSHANADI LOUHA (त्र्यूषणादि लौह )

सौठ, कृष्ण मरिच, पीपली, हरीतकी, बावची, विभीतकी,आमलक, चव्य, चित्रक, विडनमक, सैंधव, कालानमक, लौह भस्म सभी समभाग, आमलकी चूर्ण, लौह भस्म, मधुयष्ठी चूर्ण, गिलोय क्वाथ |

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

सौठ, कृष्ण मरिच, पीपली, हरीतकी, बावची, विभीतकी,आमलक, चव्य, चित्रक, विडनमक, सैंधव, कालानमक, लौह भस्म सभी समभाग, आमलकी चूर्ण, लौह भस्म, मधुयष्ठी चूर्ण, गिलोय क्वाथ |

उपयोग

मेदो रोग, प्रमेह, कफज रोग, कफज कुष्ठ आदि रोगों का नाश करता है ।शरीर को बलवान व तेजस्वी रखता है।

मात्रा   500 मि. ग्रा. से 1  ग्राम दिन में 2 बार।
अनुपान    घी और शहद 

News