PRADRANTAK RASA (प्रदरान्तक रस)

शुद्ध पारद, शुद्ध आंवलासार, गन्धक, रौष्य भस्म, वंग भस्म, कपर्दिका भस्म, शंख भस्म, प्रवाल भस्म, संगजराहत भस्म, राल व लौह बहस।

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

 शुद्ध पारद, शुद्ध आंवलासार, गन्धक, रौष्य भस्म, वंग भस्म, कपर्दिका भस्म, शंख भस्म, प्रवाल भस्म, संगजराहत भस्म, राल व लौह बहस।

सहयोग  द्रव्य

दुर्वास्वरस, अनार स्वरस, आँवला स्वरस, ग्वारपाठा स्वरस।

उपयोग

 श्वेत प्रदर, रक्त प्रदर, गर्भाशय शूल व सोमरोग दूर होते हैं। हक द्रव्य ः लौह भस्म, नाग भस्म, वंग भस्म, अश्रक भस्म, शुद्ध मासिक धर्म साफ आता है। अन्तर्दाह का शमन होता है, शिलाजीत, खखसा के फूलों की केसर।शरीर निरोग व तेजस्वी बनता है। भावना 

मात्रा

250 मि.ग्रा. दिन में 2 बार। 

News