MADHURANTAK VATI (मधुरान्तक वटी)

तुलसी के पत्र, गिलोय सत्व, लवंग, वंशलोचन, धनियाँ, 'कासनी के बीज, इलायची |

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

तुलसी के पत्र, गिलोय सत्व, लवंग, वंशलोचन, धनियाँ, 'कासनी के बीज, इलायची |

 भावना द्रव्य तुलसी स्वरस ।
उपयोग

आन्तरिक ज्वर, अन्तरविष का शमन या बाहर निकालने, ज्वर का दमन करने में लाभदायक है।

मात्रा

375 मि.ग्रा. से 500 मि.ग्रा, (3-4  गोली) दिन में 3 बार ।

अनुपान

अदरक का रसयाजल।

 

News