SANGEYAHOOD BHASMA ( संगेयहूद भस्म )

 शुद्ध संगेयहूद

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

 शुद्ध संगेयहूद

सहायक द्वव्य

धमासे की लुग्दी, मूलीपत्र स्वरस

उपयोग

अश्मरी, शर्करा, मूत्रावरोध, मूत्राशय की पथरी को तोड़करहरताल गांदली ( ग्रिश्चण ) धर्म मेमूत्र मार्ग से बाहर निकाल देती है। 3 माह तक इसकासेवन करने पर बड़ी पथरी भी टुकड़े होकर मूत्र मार्ग सेबाहर निकल जाती है।।

मात्रा 250 मि.ग्रा. से 500 मि.ग्रा. दिन में 2 बार।
अनुपान शक्कर या शरबत के साथ

 

News