PRAWAL BHASMA ( प्रवाल भस्म )

प्रवाल मूल चूर्ण, कजली

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

 प्रवाल मूल चूर्ण, कजली

 भावना द्वव्य 

घृतकुमारी स्वरस ।

उपयोग

क्षय, रक्तपित्त, कास, धातुदोष, मूत्र विकार, विष विकार,भूतबाधा, शिरोरोग, नेत्रदाह, रक्तार्श, कामला, यकृतविकार नाशक।

मात्रा 125 मि.ग्रा. से 250 मि.ग्रा. दिन में 2 बार ।
अनुपान शहद या मलाई-मिश्री

 

News