TRIVANG BHASMA-28 PUTI ( त्रिवंग भस्म (28 पुटी ))

शुद्ध कलई, शुद्ध शीशा, शुद्ध जसद

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य शुद्ध कलई, शुद्ध शीशा, शुद्ध जसद
भावना द्वव्य  घृतकुमारी मूल, हरिद्वा चूर्ण, हरिद्रा क्वाथ तथा घृतकुमारी
उपयोग

प्रमेह, बहुमूत्र, धातु क्षीणता, स्वप्नदोष, मासिक धर्म विकृति, नपुंसकता, बीजग्रन्थी की निर्बलता, मधुमेह,प्रमेह पिड़िका में लाभदायक है।

मात्रा 125 मि.ग्रा. से 250 मि.ग्रा. दिन में 2 बार ।
अनुपान शहद, घी या आंवला मुरब्बा

News