GODANTI BHASMA ( गोदन्ती भस्म )

Diamond

Qty ::



घटक द्वव्य

 गोदन्ती के टुकड़ों को आक पत्र की लुग्दी या घृतकुमारी के गूदे में संपुटकर गजपुट अग्नि देकर यह भस्म तैयार की जाती है।

उपयोग

विषमज्वर, पित्तज्वर, आमज्वर, शिरःशूल, जीर्णज्वर, श्वेतप्रदर, रक्तप्रदर, रक्तस्त्राव, शुष्ककास, दाह, तृषा, रक्तदबाव आदि रोगों का नाश करती है।

मात्रा 250 मि.ग्रा. से 1 ग्राम दिन में 2 बार।
अनुपान शहद या मिश्री

News